रासायनिक अभिक्रिया एंव समीकरण

         रासायनिक अभिक्रिया एंव समीकरण



रासायनिक अभिक्रिया

जब एक या एक से अधिक पदार्थ परस्पर अभिक्रिया करके नए पदार्थ बनाते हैं तो ऐसी अभिक्रिया को रासायनिक अभिक्रिया कहते हैं |


mg + 2HCl       =        mgcl2 + H2

इस अभिक्रिया में magnesium तथा हाइड्रोक्लोरिक अम्ल को अभिकारक तथा magnesium क्लोराइड वा हाइड्रोजन को परिणामी उत्पाद कहते हैं इस सम्पूर्ण क्रिया को रासायनिक अभिक्रिया कहते हैं | रासायनिक अभिक्रिया में भाग लेने वाले पदार्थो  तथा बनने वाले पदार्थो को रासायनिक रूप में दर्शाने को अभिक्रिया का रासायनिक समीकरण कहते हैं |

हमारे दैनिक जीवन में ऐसी बहुत सी घटनाये है जो रासायनिक अभिक्रियाओ में आती हैं | जैसे दूध से दही बनना भी एक रासायनिक अभिक्रिया हैं | लोहे पर जंग लगना भी एक रासायनिक अभिक्रिया हैं | चीनी का पानी में घुलना भी एक रासायनिक अभिक्रिया हैं | लकड़ी में आग लगना भी एक रासायनिक अभिक्रिया हैं |  ऐसे ही बहुत से ऐसे उदाहरण हैं जो हमारे आस पास होती हैं | और उन्हें रासायनिक अभिक्रिया कहा जाता हैं |

 

रासायनिक अभिकिया के प्रकार

संयोजन अभिक्रिया

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे दो या दो से अधिक प्रकार के पदार्थो के अणु परस्पर जुड़कर केवल एक ही प्रकार के पदार्थ बना लेते हैं संयोजन अभिक्रिया कहलाती हैं |


2Na + Cl2          =     2Nacl

 

जैसे sodium और क्लोरीन गैस मिलकर साधारण नमक बना लेते हैं इस अभिक्रिया को संयोजन अभिक्रिया कहते हैं |

वियोजन अभिक्रिया –

वह अभिक्रिया जिसमे कोई यौगिक अपने अवयवी तत्वों या छोटे छोटे सरल यौगिको में वियोजित हो जाता हैं यह अभिक्रिया ऊष्मा , प्रकाश तथा विद्युत् धारा द्वारा संपन्न होती हैं |

उष्मीय वियोजन –

जब कोई पदार्थ ऊष्मा देने पर वियोजित होता हैं तो ऐसी अभिक्रिया को उष्मीय वियोजन कहते हैं |

जैसे


2Kclo3                    =           2kcl + 3O2

ऊष्मा अपघटन

 

 

विद्युत वियोजन अभिक्रिया

वह अभिक्रिया जिसमे कोई पदार्थ या यौगिक विद्युत धारा प्रवाहित करने पर टूट जाता हैं | विद्युत वियोजन अभिक्रिया कहलाती हैं


2Nacl                  =                2Na  +  cl2

 

 

विस्थापन अभिक्रिया –

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे किसी यौगिक के एक अणु ,परमाणु या समूह के स्थान पर कोई दूसरा अणु परमाणु या समुह आ जाता हैं विस्थापन अभिक्रिया कहलाती हैं |

 

Fe + Cuso4                     =            FeSo4 + Cu

 

उभय विस्थापन अभिक्रिया -

जिस रासायनिक अभिक्रिया के आयनों अथवा घटकों की अदला बदली होती हैं तथा नए यौगिक बनते हैं उभय विस्थापन अभिक्रिया कहलाती हैं


Bacl2  + Na2So4      =             BaSo4  +  2Nacl

शरीर में भोजन का पाचन किस  प्रकार की अभिक्रिया हैं ?

शरीर में भोजन का पाचन एक वियोजन अभिक्रिया हैं जब हम चावल गेहू या आलू खाते हैं तो इन पदार्थो से प्राप्त स्टार्च का शर्करा में तथा प्रोटीन का एमिनो अम्ल में परिवर्तन होता हैं |

 

 

उष्माक्षेपी अभिक्रिया 

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे अभिक्रिया के दोरान ऊष्मा उत्पन्न होती हैं उष्माक्षेपी अभिक्रिया  कहलाती हैं |

जैसे

जब हाइड्रोजन तथा नाइट्रोजन संयुक्त होकर अमोनिया बनाती हैं तो उष्मीय उर्जा उत्पन्न होती हैं


N2  +  3H      =          2NH3 + 24.3 kcal

उष्माशोषी अभिक्रिया -

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसको पूरा होने के लिए उष्मा की जरूरत होती हैं | ऊष्माशोषी अभिक्रिया कहलाती हैं |

जैसे

जब नाइट्रोजन और ओक्सिजन के मिश्रण को उच्च ताप पर गर्म किया जाता हैं तो नईट्रिक ऑक्साइड बनता हैं तथा ऊष्मा वातावरण द्वारा संचित की जाती हैं |


N2 +  O2 +  45kcal         =2NO

 

शवसन को ऊष्माक्षेपी  अभिक्रिया क्यों कहते हैं |

शवसन को ऊष्मा क्षेपी अभिक्रिया इसलिए कहा जाता हैं क्योंकि इस प्रक्रिया में श्वषित की गई ओक्सिजन , भोजन के पाचन से प्राप्त , ग्लूकोज से संयुक्त होकर उर्जा उत्पन करती हैं यह उर्जा ATP में संचित हो जाती हैं |

विक्रितगंधिता किसे कहते हैं   

जब किसी खाद्य पदार्थ में उपस्थित तेल या वसा वायु की ओक्सिजन द्वारा अपचयित हो जाते हैं तब ये विक्रितगंधित हो जाते हैं तथा इनकी गंध तथा स्वाद परिवर्तित हो जाता हैं |


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ