कुलाम का नियम क्या हैं ?||कुलाम के नियम का सूत्र?

 

 

दोस्तों कुलाम का नियम कक्षा 12th के लिए परीक्षा की दृष्टि बहुत ज्यादा important टॉपिक हैं | इसलिए इस article में हमने आपको कुलाम से रिलेटेड कम्पलीट जानकारी दी हैं इसलिए इस पोस्ट को कम्पलीट रीड कीजिये |

 

कुलाम का नियम क्या हैं ? कुलाम के नियम का सूत्र? ?कुलाम का नियम  गुरुत्वाकर्षण के नियम की तरह सार्वत्रिक नहीं हैं ?कुलाम का नियम सिद्ध कीजिये ?कुलाम के नियम की सीमाए ?कुलाम का नियम तथा विद्युत क्षेत्र के नयूमेरिकल ?कुलाम का नियम कक्षा 12 physics ?कुलाम का नियम तथा विद्युत क्षेत्र ?कुलाम की परिभाषा ?एक कुलाम में कितने इलेक्ट्रान होते हैं ?कुलाम का व्युत्क्रम वर्ग नियम क्या है ?एक कुलाम आवेश में कितने इलेक्ट्रान उपस्थित होते हैं ?Coulomb’s law in vector form in hindi ?Kulams law in hindi ?Coulomb’s low in vector form ?Vector form of coulomb’s law

 

 विद्युत क्षेत्र  -

यदि किसी विद्युत आवेश को विद्युत क्षेत्र में लाया जाए तो विद्युत आवेश विद्युत क्षेत्र में आकर्षण तथा प्रतिकर्षण का अनुभव करता हैं | जिसे हम विद्युत क्षेत्र कहते है |

वद्युत आवेश दो प्रकार का होता हैं

धन आवेश था ऋण आवेश

किसी कण पर धनावेश यह दर्शाता हैं की उस कण में इलेक्ट्रोनो की कमी हैं और यदि किसी इलेक्ट्रोन में ऋण आवेश हो तो यह दर्शाता है की कण में इलेक्ट्रोनो की अधिकता हैं

मूल आवेश   

मूल आवेश वह छोटे से छोटा कण है जो किसी आवेशित कण पर हो सकता हैं इस आवेश को विभाजित यानी दो टुकडो में नहीं थोडा जा सकता हैं | यह आवेश आविभाजित होता हैं इसे e से दर्शाते हैं इसका मात्रक कुलाम है |

कुलाम की परिभाषा

यदि हम किसी चालक तार में एक इम्पियर की विद्युत धारा एक सेकंड तक प्रवाहित करे तो उस चालक में से होकर गुजरने वाले आवेश को एक कुलाम आवेश कहते हैं | इसे c से दर्शाते हैं यह विद्युत आवेश का मात्रक हैं |

कुलाम का नियम क्या हैं ?

 हम जानते हैं की सजातीय आवेश एक दुसरो को प्रतिकर्षित करते हैं यानी सामान चिन्ह के आवेश जैसे धनात्मक धनात्मक आवेश या ऋणात्मक – ऋणात्मक आवेश एक दुसरे को प्रतिकर्षित करते हैं | जबकि विपरीत चिन्ह वाले आवेश एक दुसरे को आकर्षित करते हैं | इसलिए कुलाम ne इन दोनों तरह के आवेशो के बीच लगने वाले बल का निगमन किया जिसे आज हम कुलाम के नियम के नाम से जानते हैं | इस नियम के अनुसार “ दो स्थिर बिंदु आवेशो के बीच लगने वाला आकर्षण अथवा प्ररिकर्षण का बल F उन दोनों आवेशो के गुणनफल के अनुक्रमाणु पाती तथा उनके बीच की दुरी के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती होता हैं | इसे हम कुलाम के नियम कहते हैं

मान लो की दो बिंदु आवेशq1 व q2  एक दुसरे से r दुरी पर स्थित है तब कुलाम के नियम के अनुसार इन दोनों आवेशो के बीच लगने वाला बल दो बातो पर निभर करता है

1.       दो बिंदु आवेशो q1 व q2 के बीच लगने वाला बल F इन दोनों आवेशो के गुणनफल के अनुक्रमाणु पाती होता हैं

F α q1.q2

2.       दोनों बिंदु आवेशो के बीच लगने वाला F उन दोनों आवेशो के गुणनफल के व्युक्रमानुपाती होता हैं |

3.       F α 1/r2

कुलाम का नियम  गुरुत्वाकर्षण के नियम की तरह सार्वत्रिक नहीं हैं 

?हम दो बिंदु आवेशो के बीच लगने वाले विद्युत बल की तुलना उनके बीच लगने वाले गुरुत्वाकर्षण बल से कर सकते हैं क्योंकि ये दोनों नियम एक दुसरे के सामान नियमो पर कार्य करते हैं | ये दोनों नियम निर्वात में भी क्रियाशील रहते हैं परन्तु इन दोनों में कुछ अंतर भी हैं |

1.       विद्युत बल आकर्षण बल भी हो सकता है और प्रतिकर्षण बल भी हो सकता हैं जबकि गुरुत्वाकर्षण बल सदैव आकर्षण बल होते हैं इससे यह पता चलता है की आवेश दो प्रकार के हो सकते हैं जबकि द्रव्यमान केवल एक प्रकार का होता हैं |

2.       विद्युत बल दोनों आवेशो के माध्यम पर निर्भर करता हैं जबकि गुरुत्वाकर्षण बल दोनों द्रव्यामानो के माध्यम पर निर्भर नहीं करता हैं |

3.        विद्युत बल गुरुत्वाकर्षण बल से कही अधिक प्रबल होते हैं |

 

कुलाम के बल का उपयोग

कुलाम का नियम बहुत बड़ी दुनिया मापने के साथ साथ बहुत छोटी दुनिया मापने के लिए भी सत्य हैं | यहाँ तक की यह परमाण्वीय दुरिया तथा नाभिकीय दुरिया मापने के लिए भी सत्य हैं इससे केवल आवेशित वस्तुओ के बीच कार्य करने वाले बलों का ही ज्ञान होता हैं बल्कि उन बलों का भी ज्ञान होता हैं जिनके कारण कोई इलेक्ट्रोन नाभिक के साथ बंधकर परमाणु की रचना करता हैं तथा दो अथवा दो से अधिक परमाणु परस्पर बंधकर अणु की रचना करते हैं | तथा अनेक परमाणु तथा अणु परस्पर बंधकर ठोसो तथा द्रव्यों की रचना करते हैं | हमारे दैनिक जीवन में अनेक ऐसे बल तो गुरुत्वाकर्षण बल नहीं हैं वह विद्युत बल ही होते हैं |   

 

एक कुलाम में कितने इलेक्ट्रान होते हैं ?

जैसे एक इलेक्ट्रोन में आवेश 1.6*10-19 कुलाम आवेश होता हैं वैसे ही एक कुलाम में भी इलेक्ट्रोन होते है लेकिन उन इलेक्ट्रोनो को कैसे निकालते है वो आज हम आपको इस पोस्ट के जरिये से बताने वाले है

 

1 इलेक्ट्रान = 1.6*10-19 C

 

Conclusion

I Hope इस पोस्ट में आपको कुलाम का नियम क्या हैं ? के बारे में कम्पलीट जानकारी मिल गयी होगी | अब भी यदि आपको इस पोस्ट से रिलेटेड कोई डाउट हो तो आप हमें कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं | हम आपको प्रश्न का जवाब जरूर देंगे | और यदि ये पोस्ट आपको valluable लगी हो तो इसको शेयर करना मत भूलना हम मिलते हैं आपसे अगली बेहतरीन पोस्ट में तब तक के लिए अलविदा ...

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ